Jab We Met :)

बाई  गोड , आज  तक  एक  ट्रेन  मिस  नहीं  हुई  मेरी|

बड़े सारे दोस्त मेरे मुझे अपने सारे प्रॉब्लम बताते है, और मै उन्हें सोल्व कर देती हु मै ऐसी ही टाइप की लड़की हु|

अगोनी आंट्स होती है ना मग्ज़िन्स में, आर्टिकल्स आते है ना, वैसी|

बताओ क्या प्रॉब्लम है?

बताओ! बताओ! शर्माओ नहीं प्रॉब्लम क्या है बताओ यार???

ब्रोथल वाली बात ठीक नहीं थी|

मुझे पता है, क्लीअर्ली तुम महा अपसेट हो, किसी बात को लेके|

इसी लिए तुम मुझ पे भी उपसेट हो गए और बकवास  करने लगे|

मगर इट्स ओके हा!, मुझे बुरा नही लग रहा है|

अक्चुअली आज कल… मुझे किसी बात का बुरा नही लग रहा है|

पता है क्यूँ? क्यूंकि मेरी शादी होने वाली है, बहोत ही जल्दी|

अच्छा सुनो!!! भाग कर शादी कर रही हूँ|

लड़का सिख नहीं है ना!, लोग मानेंगे नहीं| 

पर शादी के बाद कोई क्या कर सकता है!!!

 

जाके पैरो में गिर जाना है उनके माफ तो करना ही पड़ेगा|

मुझे ना पहाड़ बहोत पसंद है, रीअली!!!

बचपन  से  ही  ना मुझे  शादी  करने  का  बहुत  क्रेज   है  बाई गोड.|

एक तो यह हिल और मूउन्तेनु में क्या फरक है आज तक समझ नहीं आया| 

मै तोह बस वैट कर रही थी की कब मेरा कॉलेज ख़तम हो जाये और उसकी ट्रेवल अजेंसी चालू हो जाये

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s